product-preview-thumbnail-0product-preview-thumbnail-1product-preview-thumbnail-2product-preview-thumbnail-3product-preview-thumbnail-4

श्रीमद् महर्षि मेंहीं-गीता, संम्पादक स्वामी अच्युतानंद

Share
  • Ships within 3 days
    Min ₹ 50
    Description

    जगत कल्याणार्थ महापुरुषों ने जो ज्ञानोपदेश समय - समय पर किया है , उसी को हम गीता कहते हैं । जैसे भगवान श्रीकृष्ण द्वारा गाया गया श्रीमद्भगवद्गीता है , " जो विश्वप्रसिद्ध ग्रंथ के रूप में विख्यात है । ऐसे बहन - से गीता हैं । जैसे - पाण्डव गीता , ब्रह्मपीता , भिक्षुगीता , यमगीता , शिवगीता , सूर्यगीता ; इसके अलावे अवधूत गीता , अष्टावक्र गीता , उत्तरगीता , गणेश गीता आदि । परन्तु भगवान श्रीकृष्ण द्वारा जो श्रीमद्भगवद्गीता का . प्रादुर्भाव हुआ , वह सारे जगत् में अध्यात्म - ज्ञान के लिए प्रसिद्ध है । परमाराध्य परम पूज्य संत सद्गुरु महर्षि मेंही परमहंसजी महाराज भी जन - कल्याण - हित जो अपनी ध्यान - साधना के आलोक में ज्ञानोपदेश दे गये हैं , उन्हीं में से कुछ संक्षेप रूप में श्रीमद् महर्षि मेंही गीता ' के नाम से संकलित किया गया है ।