product-preview-thumbnail-0product-preview-thumbnail-1product-preview-thumbnail-2product-preview-thumbnail-3product-preview-thumbnail-4

महर्षि मेंहीं पदावली- शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी (मूल पुस्तक)

Share
  • Ships within 5 days
    Min ₹ 100
    Description

    प्रभु प्रेमियों ! भारतीय साहित्य में वेद, उपनिषद, उत्तर गीता, भागवत गीता, रामायण आदि सदग्रंथों का बड़ा महत्व है। इन्हीं सदग्रंथों जैसा परम पूजनीय ग्रंथ 'महर्षि मेंहीं पदावली' हम संतमतानुयाइयों के लिए है। जिसका शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी पूज्य पाद लाल दास जी महाराज द्वारा किया गया है । इस पुस्तक की जितनी भी बड़ाई की जाए कम है; क्योंकि संत वाणियों एवं गुरु महाराज के पुस्तकों का पूरी तरह से अध्ययन किए बिना इस पुस्तक को अच्छी तरह से कोई नहीं लिख सकता। गुरु महाराज के प्रत्येक पद की व्याख्या भावार्थ और टिप्पणी करते समय उद्धरण का ठोस नमूना दिया गया है। जो अपने आप में अनूठी है। इस पुस्तक के विषय में - पृष्ठ 345, मूल्य सजिल्द ₹100/- मात्र। डाक खर्च + बैंडिंग एवं अन्य खर्च ₹150/-अलग से देना पड़ेगा। ऑनलाइन मंगाने पर टोटल खर्च ₹260/- के आस-पास पड़ेगा।
    इस पुस्तक में वर्णित ज्ञान के सामने यह मूल्य कुछ भी नहीं है।