product-preview-thumbnail-0product-preview-thumbnail-1product-preview-thumbnail-2product-preview-thumbnail-3product-preview-thumbnail-4

LS35, महर्षि मेंहीं के रोचक संस्मरण, लालदास लिखीत गुरुदेव के 155 संस्मरणों का अनूठा संग्रह ।

Share
  • Ships within 3 days
    Min ₹ 145
    Description

    सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज की तपस्या एवं उनके निवास के कारण 'महर्षि मेंहीं आश्रम , कुप्पाघाट , भागलपुर भारतवर्ष का एक दर्शनीय आध्यात्मिक केन्द्र बन गया है ।यहाँ देशी और विदेशी पर्यटक प्रायः आते ही रहते हैं ।यहाँ आनेवाले पर्यटकों का कहना है कि इसआश्रमकी अवस्थिति बड़ी ही चित्ताकर्षक है ।वे सब यहाँ की पर्यटक -पुस्तिका में अपने - अपने भावपूर्ण उद्गार लिखे जाते हैं .यहां रहने वाले गुरु महाराज के प्रिय शिष्य पूज्यपाद लालदास जी महाराज अपने जीवन में जो कुछ भी घटित घटना देखें उन्हीं घटनाओं का वर्णन इस पुस्तक में किए हैं।
    पृष्ठ 224, सहयोग राशि 150.00,