product-preview-thumbnail-0product-preview-thumbnail-1product-preview-thumbnail-2product-preview-thumbnail-3product-preview-thumbnail-4

संस्कृत की सूक्तियाँ, पुस्तक में ४१९ सूक्तियों का संकलन किया गया है , जो ज्ञान , शिक्षा एवं नीति से संबंध रखती हैं ।

Share
  • Ships within 3 days
    Min ₹ 20
    Description

    ' सु ' और ' उक्ति की संधि से बने ' सूक्ति ' शब्द का अर्थ है सुन्दर कथन , मार्मिक वचनं , शिक्षाप्रद वचन , सत्य वाणी , मधुर वाणी , सत्य ज्ञान आदि । सूक्ति को ही सुभाषित , नीति - वचन तथा नीति - वाक्य भी कहते हैं । नीति - वचन ' का अर्थ है , वह वचन जिसमें कोई काम अच्छी तरह करने की युक्ति बतलायी गयी हो । नीतिपूर्वक कोई काम नहीं करने से हमारा काम बिगड़ जाता हैं । • और हमपर संकट भी आ जाता है । सूक्तियाँ हमें बतलाती हैं कि हम सामाजिक व्यवहार तथा सांसारिक काम कैसे करें , जीवन में उन्नति कैसे करें और संसार में शान्तिपूर्वक कैसे जिएँ । अपना कल्याण चाहनेवाले प्रत्येक व्यक्ति को प्राचीन संस्कृत - ग्रन्थों और उनकी सूक्तियों का अध्ययन मनन अवश्य करना चाहिए । '