product-preview-thumbnail-0product-preview-thumbnail-1product-preview-thumbnail-2product-preview-thumbnail-3product-preview-thumbnail-4

सद्गुरु की सार शिक्षा (मूल पुस्तक) साधकों के लिए बड़ी उपयोगी पुस्तक।

Share
  • Ships within 5 days
    Min ₹ 35
    Description

    पूज्य पाद लाल दास जी महाराज द्वारा लिखित "सद्गुरु की सार शिक्षा" पुस्तक सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज के 2 पद्यों के व्याख्या के रूप में उपलब्ध है । "सद्गुरु की सार शिक्षा याद रखनी चाहिए।" और "प्रेम भक्ति गुरु दीजिए बिनबौं कर जोड़ी।" की व्याख्या इस पूरी पुस्तक में पढ़ें।

    "सद्गुरु की सार शिक्षा' नाम्नी पुस्तक "महर्षि मेंहीं पदावली" के पद्यात्मक संतमत सिद्धांतों की विस्तृत व्याख्या की पुस्तक है। साधकों के लिए बड़ी उपयोगी पुस्तक है। हम संतमत अनुयायियों के लिए 'महर्षि मेंहीं पदावली' गुरु गीता है । क्योंकि इसके पद्य हमारे संत सदगुरु पूज्य पाद महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज के अंतस् में स्फुरित होकर उनके श्रीमुख से नि:सृत हुए हैं। परम मोक्ष की प्राप्ति की इच्छा रखने वाले साधकों को जितनी ज्ञान संपदा की आवश्यकता हो सकती है, वह सब की सब इस पदावली में संचित है। इसलिए इसके एक एक पद और एक एक शब्द की पूरी व्याख्या होनी चाहिए। इस दिशा में इस पूरी पुस्तक में छठा, सातवां और नौवें पद का विस्तृत व्याख्या किया गया है। पृष्ठ 166+6। यह मूल पुस्तक अभी केवल ₹35 में प्रकासक के स्टोर पर उपलब्ध है । लेकिन इसमें डाक खर्च और ऑनलाइन मंगाने का खर्च अलग से लिया जाएगा । जिससे इसका मूल्य-110/- रु. लगभग पड़ेगा। पुस्तक आपको घर बैठे 10-15 दिन के अंदर पहुंच जाएगा । पुस्तक डिमाय साइज ( सत्संग योग के जितना बड़ा ) का है।
    पुस्तक सिमित मात्रा में उपलब्ध है । अतः इस पुस्तक को खरीदने के लिए जल्दी ही ऑर्डर बुक कर ले।