Maharshi Santsevi Pravachan Piyush Part-I.pdf

Share
  • Document
  • 4 MB
Min ₹ 250
Description

संसार के त्रैतापों से तपित जीवों का कल्याण और शांति संत वचन सुधा के वर्णन से ही होता है । संतों का कल्याणकारी उपदेश ही वास्तविक पीयूष है ।पूज्यपाद संत महर्षि संतसेवी परमहंसजी महाराज के राष्ट्र - प्रेम , सदाचार , शिष्टाचार , मानस - जप , मानस - ध्यान , विंदु - ध्यान , नाद - ध्यान , सर्वेश्वर का स्वरूप , मानव तन प्राप्ति का उद्देश्य आदि सैकड़ों प्रवचनों का संकलन ही “ महर्षि संतसेवी प्रवचन - पीयूष ” नाम से प्रकाशित किया जा रहा है । जिसमें मेरा प्रयास रहा है कि १९८६ से २००७ ई० तक के उपलब्ध प्रमुख प्रवचनों को संकलन में प्राथमिकता दी जाय । -स्वामी निर्मलानंद
पृष्ठ 900, मूल्य ₹250 मात्र