product-preview-thumbnail-0product-preview-thumbnail-1product-preview-thumbnail-2product-preview-thumbnail-3product-preview-thumbnail-4

Mahrashi Mehi Charit.pdf गुरु महाराज का संत कबीर साहब के साथ तुलनात्मक अध्ययन ग्रंथ

Share
  • Document
  • 537 KB
Min ₹ 60
Description

संत ही भारतवर्ष के स्मृतिकार हैं , संत ही उसके कवि हैं , संत ही उसके संदेशवाहक है । और संत ही उसकी संतान को प्रेम , ज्ञान और शांति का पाठ पढ़ानेवाले है . . . . . . संत ही मानव जाति के प्राण हैं , संत ही संसार - रूपी पादप के अमृत फल हैं , संत ही सभ्य समाज को प्रकाश देनेवाले प्रदीप हैं । वहीं पाप - ताप से पीड़ित मानव जाति को ऊपर उठानेवाली शक्ति है । ' ' | ऐसे संतों का जीवन परम पावन और ईश्वर - भक्ति के द्वारा लोक - मंगल के लिए समर्पित होता है । सत्य तत्त्व में अहर्निश तल्लीन उनका आचरण , व्यवहार सब सत् - मय हुआ करते हैं । उनकी गति । साधारण बुद्धि की पहुँच से दूर छिपी होती है | ‘ दादू जाने न कोई , संतन्ह की गति गोई । । युगपुरुष परमाराध्य अनन्त श्री - विभूषित सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंसजी महाराज इस युग के ऐसे संत हैं , जिनकी साहित्यिक उपलब्धियों की विशिष्टताओं से आज के हिन्दी साहित्य के विद्वान् अपरिचित नहीं हैं । ऐसे महापुरुष के जीवन , दर्शन और साधना पर पूर्व के एक महान संत - संत कबीर साहब के साथ तुलनात्मक अध्ययन कर