product-preview-thumbnail-0product-preview-thumbnail-1product-preview-thumbnail-2product-preview-thumbnail-3product-preview-thumbnail-4

Om Vivechan.pdf ओम विवेचन -महर्षि संतसेवी परमहंस

Share
  • Document
  • 223 KB
Min ₹ 20
Description

परम पुरातन , परम सनातन परम प्रभु परमात्मा का परम प्राचीन एवं परम पावन नाम ‘ ओ३म् ' है । इस पवित्रतम ‘ ॐ ' की महत्तर महत्ता , उसका उद्गम , प्राकट्य , उसके स्वरूप की प्राप्ति के साधन तथा उसकी उपलब्धि के लाभ प्रभृति विभिन्न विषयों की विविध भाँति से अभिव्यंजना प्रस्तुत पुस्तक में की गयी है । -'संतसेवी' गणतंत्र दिवस 1970
पृष्ठ 57, मूल्य ₹20 मात्र।